Sunday, February 3, 2008

वरुण, डॉलर और इस्लाम

है न अजीब बात । वरूण का इस्लाम या डालर से क्या रिश्ता हो सकता है? कहां वरुण एक संस्कृत मूल का हिन्दी शब्द जिसका अर्थ है समुद या समुद्रदेव। हिन्दू धर्म में पूजे जाने वाले अनेक देवताओं में एक। दूसरा है इस्लाम जो बहुदेववाद नहीं बल्कि एकेश्वरवाद पर आधारित है। और तीसरा है डालर , जो आज के ज़माने में खुद अपने आप में एक देवता है। दरअसल वरुण का इस्लाम और डालर से रिश्ता जुड़ता है बुनेई के जरिये। ब्रुनेई हिन्द महासागर में स्थित एक इस्लामी देश है। यहां के समुद्र में तेल के भारी मात्रा में भंडार हैं और इसके चलते यहां का सुल्तान दुनिया के चंद सबसे अमीर लोगों में एक है। यहां की मुद्रा है ब्रुनेई डालर। ब्रुनेई देश का नाम संस्कृत के वरुण से ही निकला है। वरुण यानी समुद्र, नदी , जल। वाशि आप्टे के संस्कृत शब्दकोश के अनुसार वरुण समुद्र का अधिष्ठाता देवता है। उसे पश्चिम दिशा का देवता भी कहा गया है। यही नहीं, वरुण का एक अर्थ अंतरिक्ष भी है।
प्राचीनकाल से ही सभ्यताओं ने जलस्रोतों के इर्द-गिर्द विकास किया है। ये जलस्रोत न सिर्फ जीवन के लिए आधार बने बल्कि जीवन व्यापार का आधार भी बने। जल-प्रवाह ही मनुश्य के गतिशील होने का दूसरा सबसे बड़ा माध्यम बना। पहला माध्यम तो उसके पैर थे ही जिनके जरिये उसने जल स्रोत खोजे। जाहिर है नदी , सागर तट आदि शुरु से ही बसाहट के लिए मनुश्य के प्राकृतिक आश्रय रहे।
सदियों पहले मलेशिया में हिन्दू धर्म का प्रसार हो चुका था। मलेशियाई भाषा में वरूण ने बरूनाह का रूप अपना लिया जिसका अर्थ निकलता है बसने लायक जगह। करीब एक हजार साल पहले जब मलेशियाई यहां बसने आए तो यहां के प्राकृतिक सौंदर्य से प्रभावित होकर उन्होने इस जगह को यही नाम दिया। तेरहवीं सदी तक यहां हिन्दू धर्म था। चौदहवी सदी में यहां राजा ने इस्लाम धर्म ग्रहण कर लिया और पंद्रहवीं सदी में यहां के दूसरे सुल्तान ने अपने देश का नया नाम बरूनाह की जगह रखा ब्रुनेई। इस तरह हिन्दी का वरुण हो गया ब्रुनेई।

आपकी चिट्ठी

सफर के पिछले तीन पड़ावों - दरिया तो संगीत है , औरत में सचमुच कुछ भी अश्लील नहीं और सदियां कुर्बान हैं पर जो चिट्ठियां मिली उनमें है - संजीत त्रिपाठी , माला तैलंग, पंकज सुबीर , आशीष महर्षि , ज्ञानदत्त पाण्डेय, संजय , अभय तिवारी , अनुराधा श्रीवास्तव, और लावण्याजी। आप सभी का आभार । सदियां कुर्बान वाली पोस्ट के लिए दिनेशभाई ने एक सुंदर शीर्षक सुझाया, ज्ञान-वाहक - उनका आभारी हूं।

11 कमेंट्स:

Sanjay Karere said...

वरुण के ब्रुनेई बनने की जानकारी रोचक है. यह जानकारी आश्‍चर्यचकित करने वाली है कि ब्रुनेई का राजा पहले हिंदू था. शुक्रिया

Tarun said...

अजित, धन्यवाद ये सब पहली बार पता चला। वरूण और ब्रुनई कभी अंदाजा भी ना था।

संजय बेंगाणी said...

कमाल का सम्बन्ध है.

mamta said...

आप तो ब्लॉग जगत की इन्सिक्लोपीदिया बनते जा रहे है। ऐसे शाधारण शब्दों का ऐसा नायाब संबंध।

dpkraj said...

बहुत बढिया और विचारणीय लेख
दीपक भारतदीप

Sanjeet Tripathi said...

क्या बात है, बड़ा ही रोचक है यह तो!!

Anonymous said...

Hello I just entered before I have to leave to the airport, it's been very nice to meet you, if you want here is the site I told you about where I type some stuff and make good money (I work from home): here it is

Gyan Dutt Pandey said...

जहां वित्त(डालर) है,वहां सब है - वरुण भी, इस्लाम भी, धर्म भी, अधर्म भी!

दिनेशराय द्विवेदी said...

ऋग्वेद में उसने सूर्य-चन्द्र बनाए और वही उन्हें नियम पूर्वक चलाता है वरुण मनुष्यों तथा देवताओं दोनों का सम्राट है, वह विश्व का अधिपति है। वह ऋत् का देवता है अर्थात प्रकृति की व्यवस्था का रक्षक है। वह मायावी भी है, उस का एक नाम असुर भी है। उस के नियम देवताओं पर भी लागू होते हैं। यहाँ तक कि आकाश में पक्षियों का उड़ना, सागर में पोतों का मार्ग, दूरगामी वायु का मार्ग सब उसे ज्ञात हैं। उस से कुछ नहीं छिपता, और तो और पलक का झपकना तक भी। अवेस्ता के अहुर-मज्दा और ग्रीक औरानोस से इस का साम्य है। उत्पत्ति की दृष्टि से वरुण को वृ धातु से जोड़ा जाता है।

Unknown said...

अद्भुत् !!!ममता जी से पुर्णतः सहमत हूँ .... शब्दों के सफर में ऐसे कई रोचक और अचंभित् कर देने वाले पड़ाव अभी जारी रहेंगे ,इसी शुभेच्छा के साथ आभार......

Smart Indian said...

बहुत बढिया जानकारी है और बहुत बढिया काम भी. मैं इस श्रंखला से बहुत प्रभावित हुआ!

नीचे दिया गया बक्सा प्रयोग करें हिन्दी में टाइप करने के लिए

Post a Comment


Blog Widget by LinkWithin