Saturday, February 26, 2011

सफ़र को राजकमल कृति पाण्डुलिपि सम्मान

दो दिन पहले राजकमल के प्रबंधनिदेशक श्री अशोक माहेश्वरी की ओर से एक शुभ सूचना मुझे मिली। कल देर शाम यह सूचना, एक प्रेस विज्ञप्ति की शक्ल में मुझे मिली। सफ़र के सभी साथियों को इस मौके पर बधाई देना चाहूँगा। उनके सहयोग के बिना सफ़र की सफ़लताएं मुमकिन नहीं थीं। एक अदना पत्रकार का नितान्त स्वान्तःसुखाय प्रयास, आप सबकी सोहबत से यादगार बन गया। बहुत शुक्रिया दोस्तों....सूचना जस की तस इस तरह है-
raj

ये सफर आपको कैसा लगा ? पसंद आया हो तो यहां क्लिक करें

33 कमेंट्स:

सोमेश सक्सेना said...

बहुत बहुत बधाई अजित जी.

ali said...

आपको बहुत बहुत शुभकामनायें ! आपकी कृति सम्मान की सच्ची हक़दार है सो आप भी ! आपने भाषा की जो सेवा की है वह प्रशंसनीय है !

डॉ टी एस दराल said...

शब्दों का सफ़र अपने आप में एक अनोखा ब्लॉग है ।
इस विशिष्ठ उपलब्धि पर आपको हार्दिक बधाई ।

प्रवीण पाण्डेय said...

आनन्दमय समाचार। बधाईयाँ।

अमिताभ मीत said...

हार्दिक बधाई अजित भाई ....

नीरज बसलियाल said...

बहुत बहुत बधाई , आप इसकी हक़दार हैं अजित जी

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

बधाई!
मुझे तो लगा कि यह संपूर्ण हिन्दी ब्लागरी का सम्मान है।

दीपक 'मशाल' said...

बहुत-बहुत बधाई अजित सर, शब्दों का सफ़र इस सम्मान के सर्वथा योग्य पुस्तक है.. हालांकि पुस्तक लेकर तो नहीं पढी लेकिन उसके अंश ब्लॉग पर यदा-कदा झांकता ही रहता हूँ. कहना अतिश्योक्ति नहीं होगा कि यह उत्कृष्ट पुस्तक हिंदी ब्लोगिंग की पहली वो स्वर्णिम फसल है जिसे कि सम्मान हासिल होने जा रहा है. गर्व से हम सबका माथा ऊंचा किया है आपने..
पुनः अनंत शुभकामनाएं..

स्वप्नदर्शी said...

बहुत बहुत बधाई अजित जी.

विजय गौड़ said...

बहुत बहुत बधाई अजित जी | यक़ीनन एक महत्वपूर्ण काम करते रहे आप शब्दों के सफ़र के साथ | शुभकामनाएं |

राजेश उत्‍साही said...

मुबारक हो।

अजित वडनेरकर said...

बहुत शुक्रिया दोस्तों...

प्रतिभा सक्सेना said...

बहुत,बहुत ,बहुत बधाई !

अजित जी ,
यह पुरस्कार ,आपका नहीं हम सब का सम्मान है - श्रेय केवल आपको !
आपके अध्यवसाय और परिश्रम का सुफल है यह .
अभी तो यह शुरुआत है आप को पहचाने जाने की .आप जो कर रहे हैं उसके लिए हम
सब हिन्दी भाषी आपके आभारी हैं !
- प्रतिभा सक्सेना

dhiru singh {धीरू सिंह} said...

बधाई हो बधाई .यह सम्मान शब्दो के सफ़र के लिये एक नये आयाम का मार्ग प्रशस्त करेगा . डा.सुरेश वर्मा जी द्वारा जो अजितप्रभाव का आशीर्वाद मिला है वह तो सार्थक हो गया है

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

अजित जी,
बहुत खुशी हुई! हार्दिक शुभकामनायें और बधाई! लगता है जैसे आपके साथ हम प्रशंसक भी पुरस्कृत हुए हैं!

shikha varshney said...

बहुत बहुत बधाई अजीत जी आपकी कृतियाँ निश्चित ही इस समान की हक़दार हैं.ब्लोगिंग का एक सकारात्मक पहलू आपने दिखाया है.
तहे दिल से आपको शुभकामनाये.

sanjay vyas said...

बहुत बहुत बधाई.शब्दों के अथक सफर के सम्मानित होने पर.

वाणी गीत said...

बहुत बधाई एवं शुभकामनायें !

सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी said...

बहुत-बहुत बधाई। यह तो होना ही था।
हमें आप पर नाज़ यूँ ही नहीं है।:)

Mansoor Ali said...

हार्दिक बधाई, दुआएं....

'शब्द' ही तो ब्लॉग की 'पूंजी',
इसका जारी रहे 'सफ़र' यूँही,
इसकी मंज़िल ही इल्मो उल्फत है,
बढ़ रही जिससे है समझदारी .

-मंसूर अली हाशमी
http://aatm-manthan.com

Raviratlami said...

बधाई. ग्रैण्ड पार्टी के समय व स्थान की सूचना शीघ्र देवें.

निर्मला कपिला said...

बहुत बहुत बधाई। इस सम्मन से आप ही नही हम भी खुद को गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं
भाविष के लिये हार्दिक शुभकामनायें। ये सफर यूँ ही चलता रहे।य

अमित शर्मा said...

बहुत बहुत बधाई आपको !

Rahul Singh said...

उपयुक्‍त चयन के लिए आपके साथ चयनकर्ता और आयोजक भी बधाई के पात्र हैं.

आशा said...

इस पुरुस्कार के लिए हार्दिक शुभकामनाएं |
आशा

बलजीत बासी said...

यह तो होना ही था. मेरी तर्फ से हार्दिक वधाई. पूरा लाख अपने आप ही न हजम कर जाना !
शुभ कामनाएं
बलजीत बासी

anitakumar said...

बहुत बहुत बधाई अजित जी.

डा० अमर कुमार said...

.
बधाई हो देव !
देखते जाईये आपकी लगन अभी और भी रँग लायेगी ।
यह तो प्रारम्भिक पड़ाव है, मेरी शुभकामनायें आपके सँग शाश्वत रहें !

डॉ.भूपेन्द्र कुमार सिंह said...

प्रिय अजित भाई,हम सभी के मानस ने ओ सदैव आपको विजेता ही माना शब्दों के सन्दर्भ में ,यह सम्मान तो जन स्वीकृति का औपचारिक स्वीकार है /बहुत बहुत बधाइयाँ हृदय से/पहले पहल आपके आलेख दैनिक भास्कर में पढ़ कर लगता था जाने कहाँ का विशारद है यह बंधू भी ,भला हो भाई विजय मोहन जी का जिन्होने भोपाल प्रवास में अचानक मेरे चर्चा करने पर बताया कि यह रत्न तो अपना ही है ,पास ही है /वह दिन और आज का दिन ,आपकी कीर्ति और यश आपके परिश्रम के अनुपात में बढते देख अत्यंत आनंदित हूँ/यह सफ़र का आगाज़ है अभी /सदर,सस्नेह ,
डॉ.भूपेन्द्र ,रीवा

वन्दना अवस्थी दुबे said...

ये तो होना ही था. बधाई, बहुत बहुत.

Ram Krishna Gautam said...

बधाई हो सर... आपकी यह उपलब्धि बेहद खास है...


शुभकामनाएं

रामकृष्ण गौतम

Abhishek Ojha said...

बधाई ! बधाई ! बधाई !
जै जै !

सञ्जय झा said...

jai ho.............

pranam.

नीचे दिया गया बक्सा प्रयोग करें हिन्दी में टाइप करने के लिए

Post a Comment


Blog Widget by LinkWithin