Monday, June 23, 2008

हाथी ने दिखाई, हाथ की सफाई !!

हाथी को चाहे मनुश्य से भी अधिक बुद्धिमान माना जाता हो, वह कितना ही पूजनीय हो मगर उसकी गणना पशुओं में ही होती है अर्थात हाथी के चार पैर ही होते हैं । अब ये कहने की बात नहीं कि मनुश्य के शरीर को गतिशील बनाने वाली जो चार प्रमुख संरचनाएं (अंग)नज़र आती हैं वे दो हाथ और दो पैर होते हैं। पशुओं को मनुश्य से अलग करनेवाले कई कारणों में एक कारण यह भी है कि पशुओं के शरीर पर नज़र आते ये चार अंग पैर होते हैं और इसीलिए उन्हें चौपाया कहा जाता है।

गर कहा जाए कि हाथी के पास भी हाथ होता है तो शायद कोई यकीन नहीं करेगा मगर हाथी के नामकरण के पीछे उसकी सूंड का ही हाथ है। दरअसल हाथी की सूंड ही उसका हाथ होती है । जितनी सफाई से इसके जरिये असंभव लगनेवाले काम करता है, इन्सान को उन्हें करने के लिए भारीभरकम मशीनों की ज़रूरत पड़ती है। संस्कृत में हाथ के लिए हस्तः शब्द है। हिन्दी का हाथ इससे ही बना है। हाथ कंधे से लेकर अंगलियों की पोरों तक समूचे हिस्से को कहते हैं। हाथ के अगले हिस्से के लिए हथेली शब्द हस्त+तल से बना है।

नुश्य पैरों की बनिस्बत हाथों से ही अधिकांश कार्य व्यापार संपन्न करता है सो रोज़मर्रा की कुछ वस्तुओं के नाम भी इसी मूल से उपजे हैं जैसे हथोड़ा, हथोड़ी । किसी उपकरण की मूठ को हत्था या हत्थी भी कहा जाता है। हथियार,हथकरघा वगैरह भी इसी कड़ी में गिने जा सकते हैं। हाथ की महिमा मुहावरों में नज़र आती है । जितनी कहावतें या मुहावरे रूप को लेकर नहीं बने हैं उससे ज्यादा हाथ से बने हैं मसलन हाथ की सफाई ,हाथ से निकलना, हाथ लगना , हाथ आना, दो-दो हाथ करना , हाथ आज़माना, हाथ डालना , हाथ खाली होना, हाथ खुला होना , हाथ पीले होना आदि।

स्तः से ही बना है हस्तिन् जिसका मतलब हुआ हाथ जैसी सूंडवाला। गौरतलब है कि वो तमाम कार्य , जो मनुश्य अपने हाथों से करता है , हाथी अपनी सूंड से कर लेता है इसीलिए पृथ्वी के इस सबसे विशाल थलचर का हाथी नाम सार्थक है। हस्तिन् का एक अर्थ गणेश भी होता है जो उनके गजानन की वजह से बाद में प्रचलित हुआ। हस्तिनी से बना हथिनी शब्द। श्रंगाररस के तहत साहित्य में जो नायिकाभेद बताए गए हैं उनमें से एक नायिका को हस्तिनी भी कहते हैं।

13 कमेंट्स:

Udan Tashtari said...

बहुत उम्दा जानकारी हमेशा की तरह. आभार. हाथ से हाथी-कभी इस ओर ध्यान ही नहीं गया.

Anonymous said...

जानकारी के लिये धन्यवाद, साथ ही हस्तिनी कही जानी वाली नायिका कैसी होती होगी इतना जरूर पता चल गया ;)

mamta said...

हाथी वाला मुहावरा भी बहुत प्रचलित है :)
हाथी के दांत खाने के और दिखाने के और।

Dr. Chandra Kumar Jain said...

ऐसी नायाब जानकारी को तो
कोई भी हाथों हाथ ले लेगा.
=====================
सफ़र में साथ और हाथ का
वादा एक बार फिर...
बधाई
डा.चन्द्रकुमार जैन

Shiv said...

अजित भाई, बहुत बढ़िया जानकारी हाथ लगी.

डॉ .अनुराग said...

jai ho maharaaj......

Abhishek Ojha said...

चलिए लगे हाथो ये जानकारी भी मिल गई !

दिनेशराय द्विवेदी said...

हस्ति तो हस्ती है।

Ashok Pandey said...

आप तो जिस शब्‍द पर हाथ आजमा रहे हैं, बस जादू कर दे रहे हैं।

Abhijit said...

bahut hi sundar article. vaise hathi aur hath ka ek aur sampark bhi hai. Sanskrit me haath ke liye ek aur shabd hai "kar" aur hathi ke liye "kar-i" shabd ka prayog hua hai arthaat jiske paas "kar" ho. to haath aur haathi hi nahi, unke paryayvachi shabdo me bhi aise sambandh hain

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

अजित भाई
शुक्रिया ,
इन जानकारियोँ के लिये !

Dr. Chandra Kumar Jain said...

अजित जी !
आपकी ताज़ा और रौबदार
तस्वीर के लिए भी बधाई.
=====================
डा.चन्द्रकुमार जैन

मीनाक्षी said...

बहुत रोचक जानकारी मिली...अब तो हम सूँड को हाथी का हाथ ही कहेंगे... रायमिक जो है...

नीचे दिया गया बक्सा प्रयोग करें हिन्दी में टाइप करने के लिए

Post a Comment


Blog Widget by LinkWithin