Thursday, November 1, 2007

दान या डोनेशन की दाद

‘द’ वर्ण का का प्रभाव देना या सौपना के अर्थ में यूरोपीय परिवार की कई भाषाओं पर देखा जा सकता है। इनमें फारसी से लेकर लैटिन, फ्रेंच, अंग्रेजी जैसी भाषाएं हैं।
द’ से ही संस्कृत में दद् या दद जैसे शब्द भी बने हैं जिनमें देने का भाव ही समाया है। ददसे ही बना दादः जिसका मतलब हुआ देने वाला या दानी । गौर करें कि प्रशंसा करने के अर्थ में हिन्दी उर्दू में अक्सर एक शब्द बोला जाता है दाद देना । देने का भाव तो दाद में खुद ही शामिल है । यह शब्द फारसी का है और इसका अर्थ भी दान करना, प्रशंसा करना , बख्शीश देना या कुछ भी देना है। यह इसी दादः से बना है। फारसी में दाद का एक अर्थ न्याय और इंसाफ भी होता है। गौरतलब है कि न्याय भी किसी को मिल रहा होता है और शासन या व्यवस्था की तरफ से किसी को दिया जा रहा होता है। फारसी में इसीलिए इंसाफ चाहने वाले यानी फरियादी को दादख्वाह और मजिस्ट्रेट को दादगर, दादार और दादबख्श भी कहते हैं।

अंग्रेजी में दान का पर्याय है डोनेशन । इसका भी इसी धातु से रिश्ता है। अंग्रेजी में इसकी आमद हुई पुरानी फ्रेंच के डोनेशन से जहां ये लैटिन के donationem से आया। मूल रूप से इसकी उत्पत्ति प्राचीन भारोपीय भाषा परिवार के डोनम (donum) से मानी जाती है । यूरोप की कई भाषाओं में देने के भाव ने उपहार , भेट का रूप ग्रहण कर लिया। लिथुआनी भाषा में इससे बना ड्यूओनिस इसी अर्थ में इस्तेमाल होता है। आपसी वस्तु या मौद्रिक व्यवहार के लिए लेन-देन शब्द भी इसी कड़ी से जुड़ता है

4 कमेंट्स:

स्मिता पावगी said...

इस रोचक प्रस्तुति के लिए आपको भी दाद दी जाती है।

Udan Tashtari said...

इतना बेहतरीन सतत ज्ञान देते रहने के लिये दाद स्विकारें.

बोधिसत्व said...

भाई इन सब आलेखों को पुस्तकाकार छापने री सोचें

बाल किशन said...

समीर लाल जी सहमत हूँ. आपको दाद.

नीचे दिया गया बक्सा प्रयोग करें हिन्दी में टाइप करने के लिए

Post a Comment


Blog Widget by LinkWithin