Thursday, April 9, 2009

बिलैती मेम, बिलैती शराब और विलायत

2cupmeas skin-care-tecniques-with-the-humble-tomato
अंग्रेजी राज में सोडावाटर को बिलैती पानी और टमाटर को बिलैती बैंगन कहा जाता था
पनी विशिष्ट जातीय, सांस्कृतिक, धार्मिक पहचान रखनेवाले क्षेत्र के लोगों के लिए अन्य इलाके हमेशा से परदेश, विदेश का दर्जा रखते रहे हैं। प्रायः हर समूह में इन क्षेत्रों के लिए हेय भाव रहा है। प्रभुत्व के आधार पर अलग अलग इलाकों की संस्कृति अन्य प्रांतों की सभ्यता-संस्कृति पर हावी होती रही है। भारत में अरसे तक विदेशियों को म्लेच्छ, यवन कहा जाता रहा। इस्लामी दौर में मंगोल हमलावरों की बर्बरता के चलते एक नया शब्द प्रचलित हुआ उज़बक। चूंकि भारत पर हमला करनेवाली फौज में उज्बेकी नस्ल के लोग होते थे सो उनकी हरकतों के चलते उज़बक शब्द चल पड़ा जो प्रायः उजड्ड, असभ्य के अर्थ में इस्तेमाल होता रहा है। इसके बद आए अंग्रेज जिन्हें उनके धर्म और रंग-रूप के आधार पर क्रिस्तान, फिरंगी कहा गया। गौरतलब है ईसाई अर्थात क्रिश्चियन धर्म की वजह से वे क्रिस्तान कहलाए। ईसा के लिए क्राईस्ट शब्द है जिसका अरबी रूप ख्रिस्त हुआ। यही बरास्ता फारसी उर्दू में क्रिस्तान कहलाया।  फिरंगी शब्द का उद्गम मिस्र में फ्रांस के दखल से हुआ। फ्रांसीसी वहां फिरंज कहलाए यानी विदेशी। बरास्ता अरबी, फारसी, कई रूप बदलता हुआ यह शब्द हिन्दी में फिरंगी के अर्थ में समा गया।
विलायत vilayat भी एक ऐसा ही शब्द है। विदेश अथवा परदेश के अर्थ में विलायत का मोटा सा अर्थ अंग्रेजों के ज़माने में ब्रिटेन से ही था। फिरंगी, क्रिस्तान,म्लेच्छ आदि की तरह विलायती शब्द में घृणा का भाव नहीं था बल्कि कौतुहल का भाव था। इसकी वजह थी विलायत शब्द अंग्रेजी का न होकर मूल रूप से अरबी का है जो फारसी के जरिये हिन्दुस्तानी में दाखिल हुआ। अंग्रेजों ने भारत को शुरू से एक बाजार समझा और मशीनों से उत्पादित विविध तरीके की वस्तुओं से यहां का बाजार भर दिया। भारत के विभिन्न रजवाड़ों में राजकाज की भाषा फारसी ही थी और इन सामानों के साथ विलायती शब्द प्रचलित हो गया। अंग्रेज खान-पान के शौकीन थे। खास तौर पर मदिरापान उनकी खानपान शैली का एक विशिष्ट संस्कार था। वे ठण्डे मुल्क से आए थे। मदिरा में पानी न मिलाते हुए सोडावाटर मिलाते थे। भारतीयो ने इसे विलायती पानी soda water कहने लगे। यूरोपीयों के आने के बाद ही टमाटर से भारतीय परिचित हुए जिसे उन्होंने विलायती बैंगन कहा। गौरतलब है कि देशी ज़बान में विलायती शब्द भी बिलैती हो गया। बिलैती पानी, बिलैती बैंगन के साथ साथ बिलैती मेम जैसे शब्द चल पडे। अंग्रेजी शराब के लिए सिर्फ “बिलैती” शब्द रूढ़ हो गया। आज भी वाइन शॉप पर लिखा मिल जाता है-विलायती शराब की दुकान। पूर्वी अंचल के ग्रामीण समाज में गोरी चिट्टी, सुंदर कन्या का नामकरण बिलैती भी होता है।

आज विभिन्न भाषाओं में विलायत का अर्थ विदेश ही है...1911636329

वोटर लिस्ट में कई बिलैती देवियां मिल जाएंगी। सोनिया गांधी तो सचमुच बिलैती देवी ही हैं।
विलायत शब्द मूल रूप से अरबी ज़बान से निकला है जो बना है विलायाह vilayah से। अरबी में इसका मतलब होता है प्रदेश, प्रांत अथवा स्वायत्तशासी शासनतंत्र। इस शब्द में मूलतः भौगोलिक रूप से किसी ऐसे क्षेत्र विशेष की बात है जो एक प्रशासनिक ढांचे के जरिये शासित है। जहां नियम, कायदा कानूनों का अस्तित्व है। जाहिर है राज्य शब्द ही इसके दायरे में आता है। यह बना है सेमेटिक धातु व-ल-य w-l-y से जिसमें विधि-विधान के अंतर्गत शासन करने का भाव है। विलायत शब्द का अर्थ हिन्दी उर्दू समेत दुनयाभर की ज्यादातर भाषाओं मे पृथक राज्यसत्ता के तौर पर पहुंचा और अंततः विदेश भूमि के तौर पर रूढ़ हो गया। अंग्रेजी में विलायत शब्द   ब्लाईटी Blighty के रूप में मौजूद है। तुर्की भाषा में छोटी प्रशासनिक इकाइयों को विलाइत vilaet कहा जाता है। तुर्की-अरबी के उपनिवेश भी विलाइत कहलाते थे। विलायत जहां हिन्दी उर्दू में विदेश के लिए आम है वहीं विलायती से तात्पर्य विदेशी या विदेशी सामान से है। अरबी में विलायाह का अर्थ सूबा अथवा प्रांत से ही है। इस अर्थ में संयुक्त राष्ट्र  का अरबी अनुवाद होगा अल विलाया अल मुत्ताहिदा।
इसी मूल से जुड़े कुछ और शब्द अगली कड़ी में-

ये सफर आपको कैसा लगा ? पसंद आया हो तो यहां क्लिक करें

23 कमेंट्स:

Anonymous said...

amaging.. i hv learnt manything from u.

My mother tongue Nepali and language hindi seems to be close but I never heard बिलैती in nepali language.

but yes we use म्लेच्छ, फिरंगी do denote english speaking foreigners. the word बेलायत is used to denote UK and बेलायती is for sth from UK.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' said...

भाई बडनेकर जी!
विलायती पानी, विलायती बैंगन तथा
विलायती टमाटर के साथ-साथ आज
लोगों के दिलों पर भी विलायती
भाषा छा गयी है।
विलायत का सफर अच्छा लगा।
बधाई।

दिनेशराय द्विवेदी said...

तीनों शब्द आम हैं लेकिन उन के बारे में जान कर अच्छा लगा।

dhiru singh { धीरेन्द्र वीर सिंह } said...

विलायत पढने गए विलायती बाबु बन कर लौटे साथ मे विलायती मेम भी ले आये कई लोग

अविनाश वाचस्पति said...

आजकल तो विलैती
विलायती जूते कहर
ढा रहे हैं
बिलैती शराब से
अधिक असर
दिखला रहे हैं
खाने वाले और

मारने वाले दोनों

शान से सर
उठा रहे हैं

डॉ. मनोज मिश्र said...

आपने वाकई बहुत सुंदर लिखा है ,आपका विलायत का सफर अच्छा लगा
आपको बहुत -बहुत बधाई।

विष्णु बैरागी said...

विलायत की व्‍युत्‍पत्ति जानकर अच्‍छा लगा। आपके परिश्रम को नमन।

Arun Arora said...

आपका आदेश सिर माथे सो हम कतई टिपिया नही रहे है विलैती लगाकर सोचेगे की आपका आदेश माने या टिपिया ही दे :)

Anil Pusadkar said...

टमाटर यानी बिलैती बैंगन के बारे मे बताने के लिये बिलैती धन्यवाद यानी थैंक्स्।

ताऊ रामपुरिया said...

बहुत बढिया सफ़र करवाया जी आपने.

रामराम.

परमजीत सिहँ बाली said...

बहुत बढिया। अच्छा लगा।

ghughutibasuti said...

उज़बक शब्द एक लखनऊ वाली दीदी से सुना था। फिर भूल गई थी। कई बार याद करने पर भी याद नहीं आता था। आज याद दिलाने व उसकी उत्पत्ति के बारे में बताने के लिए आभार।
घुघूती बासूती

रंजना said...

विकसित देशों के लिए बाज़ार तो भारत आज भी है.
विलैती,उजबक इत्यादि सहज प्रचलित शब्दों की इतनी सुन्दर विवेचना सराहनीय है...
हमेशा की तरह ज्ञानवर्धक सफ़र.
आभार.

किसी सभा में यदि ज्ञानपिपासुओं की संख्या कम हो तो इससे विद्व जानो को हतोत्साहित नहीं होना चाहिए.....आप तो बस कर्म किये जाइये....

Unknown said...

ज्ञानवर्धन के लिए शुक्रिया

सर

नीलिमा सुखीजा अरोड़ा said...

is bilayti post ke liye bilayti shukriya.

Anita kumar said...

विलायती बैंगन टमाटर कब कहलाने लगा , बाक़ी शब्द सुने हुए हैं , फिर भी जानकारी के लिए धन्यवाद

Dr. Chandra Kumar Jain said...

यह भी खूब है.
===============
डॉ.चन्द्रकुमार जैन

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

शब्दों विलायती बैंगन = माने टमाटर और ककडी की सैंडविच हमें पसंद है - और शब्दों का सफ़र भी ...

Anonymous said...

amitabh srivastava
ajitjI
VILAYAT ko sahi artho me rakh kar samjhaane ke liye shukriya..mujhe aapke is shbdo ke safar ne kaafi gyaan diya he, mil bhi raha he..vese bhi gyaan jitna mile kam hi hota he par milta rahe isase badi baat aour kyaa hogi..aapko dhnyavaad

aapka hi
AMITABH

डॉ दुर्गाप्रसाद अग्रवाल said...

बहुत रोचक जानकारी दी है आपने..अगली कड़ी का इंतज़ार है.

मीनाक्षी said...

टमाटर को विलायती बैंगन कहा गया....यह तो एकदम नई जानकारी है..

RAJ SINH said...

अब हम भी पेशोपेश में हैं .विलायत पहले गए मतलब आज समझे .......और फिरंगियों से तो बहुत पाला पड़ा है .
क्या सफ़र है !

मुनीश ( munish ) said...

शानदार । मज़ेदार ।

नीचे दिया गया बक्सा प्रयोग करें हिन्दी में टाइप करने के लिए

Post a Comment


Blog Widget by LinkWithin