Sunday, September 13, 2009

आरामगाह में गधा और रमणी

2donkeys

राम शब्द किस भाषा का है? हिन्दी, उर्दू या फारसी का? कुछ लोग इसे बड़ी आसानी से हिन्दी का बता सकते हैं और कुछ इसे उर्दू-फारसी का भी कह सकते हैं। दरअसल यह  संस्कृत का शब्द है जो आराम: के रूप में प्रयोग होता है। इसका अर्थ है खुशी, प्रसन्नता या इन्द्रिय आनंद। इसके अलावा इसका अर्थ बाग-बगीचा, उद्यान भी है। उद्यान के उपयोग पर गौर करें तो भी आराम शब्द का अर्थ साफ हो जाता है यानी ऐसा स्थान जहां जाकर इन्द्रियों को प्रसन्नता का अनुभव हो। संस्कृत में इसीलिए माली के लिए आरामिकः शब्द भी है।
संस्कृत का आराम: भी मूलत: रम् धातु से बना है जिसका अर्थ है सुहावना, आनंदजनक या संतोषप्रद। रम् में उपसर्ग लगने से बना आरामः। रम् धातु में मूलतः अन्त, उपसंहार, बंद करना, स्थिर होना, रुकना, ठहरना जैसे भाव शामिल हैं। इन्द्रियों को शिथिल करने अथवा उनकी क्रियाशीलता को रोकने से शांति उपजती है। यह शांति ही आनंद, उल्लास, प्रसन्नता और तृप्ति का सृजन करती है। आराम शब्द के मूल में यही सब बाते हैं। आराम का उद्देश्य भी इन्हीं तत्वों की प्राप्ति है। इसी तरह रम् धातु में वि उपसर्ग लगाने से बने विराम शब्द में भी थमना, रुकना, बंद करना, उपसंहार जैसे भाव हैं मगर इसका अर्थ आराम नहीं होता है बल्कि किन्हीं क्रियाओं या स्थितियों के अंत का इसमें संकेत है। आराम को भी विराम दिया जाता है अर्थात विराम दरअसल सक्रियता की भूमिका भी हो सकती है। भगवान राम के नाम का मूल भी यह रम् धातु ही है। राम का अर्थ भी आनंद देने वाला ही होता है। 
म् से हिन्दी के कई अन्य शब्द भी बने हैं जैसे रमण। इसके कई अर्थ हैं जैसे सुहावना, मनोहर, आनंदप्रद आदि। रमणीय के मायने हुए सुहावना, मनोरंजक वगैरह। इसके अतिरिक्त प्रेमी, पति, और कामदेव भी होता है। रमण का एक और भी अर्थ है जो चौंकानेवाला है- "'गधा"। मगर कलियुगी यथार्थ पर अगर प्रेमी या पति को देखें तो रमण का पर्याय

हिन्दी में भी आराम शब्द का प्रयोग विश्राम के अर्थ में ही होता है। फारसी में तो इससे कई शब्द भी बन गए जैसे आरामतलब, आरामगाह, आरामकुर्सी, आरामपसंद, आरामदेह वगैरह वगैरह। खास बात ये कि ये तमाम शब्द हिन्दी में भी खूब इस्तेमाल किये जाते हैं।

गधा कुछ ग़लत भी नहीं है। जिन्हें संदेह है वे वाशि आपटे का शब्दकोश देख सकते हैं। इसी तरह रमणी के मायने हुए पत्नी, प्रेयसी या सुंदरी। लक्ष्मी का एक नाम रमा भी इसी से बना है। इसीलिए विष्णु के लिए रमाकांत, रमानाथ और रमापति जैसे नाम भी चल पड़े। रम्य, सुरम्य, मनोरम जैसे शब्द भी इसी कड़ी में आते है। चीनकाल में बौद्ध भिक्षुओं के संघ जिन मठों, विहारों या उद्यानों में विहार करते थे, उसे संघाराम ही कहा जाता था अर्थात भिक्षु संघों के आराम करने का स्थान। नालंदा विश्वविद्यालय का संघाराम तत्कालीन भारत का सबसे विशाल संघाराम था ऐसा छठी सदी में भारत आए चीनी यात्री ह्वेनसांग के यात्रावर्णन में उल्लेख है। मथुरा के संघाराम भी प्रसिद्ध थे और प्रायः सभी प्रसिद्ध विदेशी वृत्तांतों में इनका उल्लेख है। प्राचीन फारसी यानी अवेस्ता ने आरामः को ज्यों का त्यों अपना लिया। फिर ये आधुनिक फारसी में भी जस का तस रहा। फारसी से ही ये उर्दू में भी आराम आया। यहां इस शब्द का अर्थ बाग-बगीचा न होकर शुद्ध रूप से विश्राम के अर्थ में है। [संशोधित पुनर्प्रस्तुति]

ये सफर आपको कैसा लगा ? पसंद आया हो तो यहां क्लिक करें

23 कमेंट्स:

dhiru singh {धीरू सिंह} said...

रमण क्या सटीक शब्द है हम जैसे शादी शूदा लोगो के लिए . वैसे आराम बड़ी चीज है मुँह ढक के सोइए ,किस किस को याद कीजिये किस किस पे रोइए

प्रेमचंद गांधी Prem Chand Gandhi said...

अजित भाई, इस उम्‍दा जानकारी के लिए आभार। चलते-चलते यह भी बता देते कि आराम का और रम् धातु से अंग्रेजी में किस प्रकार 'रम' RUM की उत्‍पत्ति हुई। वो भी तो आराम ही देती है ना। भारतीय सेना के जवानों को तो रम ही दी जाती है, थकान उतारने के लिए।

िकरण राजपुरोिहत िनितला said...

खमाा घणी
आज सुबह दैनिका भास्कर के रिववारीय अंक में आपकी मौजूदगी देखकर सुखद एहसास हुआ। उसी पते पर मेल उसी समय भेजा लेकिन तकनीकी गड़बडी के कारण शायद नही पहुंचा। जानकारी बहुत उत्तम थी। मैंने अपने पित को भी पढने को दिया।
आपके शब्दों की जानकारी उनको सुना सुना कर उनको आपका फैन और शब्दों की गहराई में जाने का चस्का लगा दिया।
मेरा नाम ही शब्दकोश रख दिया ।
रम का विस्तृत रमण अच्छा लगा।

संजय तिवारी ’संजू’ said...

आपको हिन्दी में लिखता देख गर्वित हूँ.

भाषा की सेवा एवं उसके प्रसार के लिये आपके योगदान हेतु आपका हार्दिक अभिनन्दन करता हूँ.

ज्ञानदत्त पाण्डेय | Gyandutt Pandey said...

शुक्र है आराम "राम" से न जुड़ा! :-)

Mithilesh dubey said...

अच्छी जानकारि देने के लिए आभार।

Mrs. Asha Joglekar said...

राम का अर्थ है आनंद देने वाला. मराठी में कहते हैं," जो रमवितो तो राम ". यह भी शायद आपके राम धातु से ही आया होगा. हमेशा की तरह ही सुंदर और ज्ञानवर्धक .

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

वाह हिन्दुस्तान का अच्छा खाका खींचा है।
बधाई!

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

आराम तो राम से स्थाई रूप से जुड़ा है। जब मनुष्य को स्थाई आराम मिलता है, तब लोग सार्वजनिक घोषणा करते कि राम नाम सत्य है।

P.N. Subramanian said...

बहुत ही सुन्दर. बहुत अच्छी बात कही. आराम को भी विराम देना पड़ता है.

अजित वडनेरकर said...

@दो दिनों से ब्राडबैंड कष्ट दे रहा है, इसलिए लगातार नेट पर उपस्थिति नही मिल रही है। प्रेमभाई, निश्चित ही 'रम' RUM का सेवन भी आराम ही प्रदान करता है और ध्वनिसाम्य के आधार पर संस्कृत रम् के क़रीब है। मगर यह भारोपीय भाषा परिवार का शब्द नहीं है। दरअसल इसकी व्युत्पत्ति पर भाषाविज्ञानी एकमत नहीं है। इसे रमबुलियन का संक्षिप्त रूप बताया जाता है जो मध्यकाली ब्रिटेन की तगड़ी, कर्री शराब मानी जाती थी।

अजित वडनेरकर said...

@किरण राजपुरोहित
शुक्रिया किरणजी। बहुत आभार कि आपने अपने पिताश्री को भी सफर के बारे में बताया। आपको मिली उपाधि के लिए भी बधाई लीजिए।

हेमन्त कुमार said...

बेहतर । शुक्रिया । आभार ।

हिमांशु । Himanshu said...

भगवान राम के नाम का मूल भी यह रम् धातु ही है। राम का अर्थ भी आनंद देने वाला ही होता है।"
महत्वपूर्ण व्युत्पत्ति का पता चला । आभार ।

Nirmla Kapila said...

्रम अर्थात रमण हमने सोचा था आज आराम ही करेंगे कोई काम नहीं मगर आपके शब्दों ने तो हमे चौकन्ना कर दिया। रम्ण मतलव आराम भी और गधा भी ना जी हम गधे नहीं बनेंगे अब काम मे ही जुटते हैं आभार आज आपने गधे बनने से बचा लिया

Mansoor Ali said...

आराम ही मिला था की चौंका दिया हमें,
दिखलाया बागे सब्ज़ भी, गर्दभ बना दिया.
रमणी गधी नही बनी अफसोस इसका है,
सब आशिकों को आपने चूना लगा दिया.

हिन्दी दिवस पर बधाई और शुभ कामनाएं.

-म ण [सू ] र

डॉ.भूपेन्द्र कुमार सिंह said...

अजित भाई ,इस बार भी आप दूर की कौडी लाये /हम आनंद में आरामः कहते थे बिना जाने कि आप का समर्थन मिल जायेगा और वस्तुतः सही भी होगा /
आनंद आगया राम, रम्य ,रमण आराम और फारसी के साथ तादात्म्य पर /
मानना ही पड़ेगा आपकी जिजीविषा, समर्पण और नवोन्मेष को /
बार बार सोचता हूँ कि तथ्यपरक रहूँ पर आप इतने सटीक, इतने विलक्षण दीखते हो कि प्रशंसा के शब्द बारिश की बूंदों की तरह हाथ से फिसल जाते है /
आपकी सराहना तो करना ही नहीं है ,क्या करूं ये भी अब नहीं पता....
आपकी तारीफ अब हमारी तारीफ बन चुकी है /
यह मिशन जारी रहे इसीका आनंद है /इस बॉक्स को आयात करना है ,इतना सुंदर ,संवेदनशील हिंदी बॉक्स नहीं मिला है /बताइयेगा कि कैसे इसे चुराया जाये?
सादर, आपका ही ,
भूपेन्द्र

Arvind Mishra said...

ऊ गधा वाले अर्थ के संदर्भ में रमारमण का का मतलब हुआ अजित जी !

अशोक कुमार पाण्डेय said...

यार भाई साहब कसम से साली हमारी पीढी उर्दू संस्कृत के बिना लंगडी हिन्दी से काम चला रही है
यह सब बता कर आप जो कर रहे हैं वह अद्भुत योगदान है…हमारे लिये तो बेशकीमती
आभार कहूं तो बुरा तो नहीं मानेंगे ना

google money master said...

बेहतर । शुक्रिया । आभार ।

bhut accha likha ha tumne

ताऊ रामपुरिया said...

बहुत सुंदर जानकारी और अरविंद मिश्राजी वाली उत्सुकता हमारी भी है.

हिंदी दिवस की रामराम.

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

श्री राम रमा श्रमनम रमणं :)
- लावण्या

गिरिजेश राव said...

बहुत दिनों तक सरेह में भटकने के बाद आज ब्लॉग जगत आया तो पाया कि 'देनदारी' काफी बढ़ चुकी है।

मैं इतना ही जोड़ूँगा कि रमण का एक अर्थ संभोग भी होता है। आचार्य चतुरसेन ने 'वयम रक्षाम:' में इसका खूब प्रयोग किया है।

नीचे दिया गया बक्सा प्रयोग करें हिन्दी में टाइप करने के लिए

Post a Comment


Blog Widget by LinkWithin