Friday, December 4, 2009

जागीर, जगह और जागीरदार

"जागीरदारियां तो खत्म हो गईं, पर लोकतंत्र में ये अभी कायम है। बस, जागीरों की परिभाषा बदल गई है."

स्था न के विकल्प रूप में जगह शब्द का इस्तेमाल सर्वाधिक होता रहा है। यह मूलतः फारसी का शब्द है और उर्दू, हिन्दी के अलावा भारत की ज्यादातर क्षेत्रीय भाषाओं में इस्तेमाल होता है। जगह शब्द में स्थान के अलावा कई अन्य निहितार्थ भी हैं जिनके प्रयोग से मुहावरे का असर पैदा हो जाता है जैसे, जगह निकालना या जगह बनाना यानी अपने लिए अनुकूल परिस्थिति पैदा करना, अवसर मिलना या बनाना। बोलचाल की हिन्दी में जगह का अर्थ नौकरी, पद या ओहदा भी होता है। दरअसल स्थान विशेष किसी वस्तु या व्यक्ति की स्थिति को बताता है। यही जगह है। अब ओहदा या पद भी स्थिति को ही दर्शाता है सो उसी अर्थ में जगह का इस्तेमाल भी होता है जैसे अक्सर नौकरी की सिफ़ारिश के संदर्भ में सुनने को मिलता है कि अच्छी जगह सेट करा दीजिए...
गह फारसी शब्द है। फारसी में जा का मतलब होता है स्थान। समझ जा सकता है कि यह जा+गाह  के मेल से बना होगा। जा यानी स्थान और गाह यानी निवास, आवास, खेमा आदि। इस तरह जगह में किसी वस्तु या व्यक्ति के नियत स्थान का भाव है। उर्दू में जगह का उच्चारण जगा की तरह होता है। अक्सर लोग अपने नियत स्थान को जागीर भी मान लेते हैं। जागीर शब्द भी इसी मूल से उपजा है। यहां भी जा अर्थात स्थान या जगह की महिमा नजर आ रही है। फारसी के जा में गीर (जा+गीर) प्रत्यय लगने से  बना है जागीर। जा यानी स्थान और गीर यानी रखना, ग्रहण करना या धारण करना, अर्थात जागीर वह भूसम्पत्ति है जो शासन या राज्य की ओर से किसी व्यक्ति को राजस्व वसूली के उद्धेश्य या ईनाम के तौर पर दी गई हो। ऐसी भूमि के मालिक को जागीरदार का रुतबा मिलता था। जागीरदार दरअसल कोई पद  नहीं होता था, बल्कि परिस्थिति से पैदा रुतबा था, मगर अक्सर जागीरदार बनने के बाद लिप्सा बढ़ती थी और जागीरदार फिर जमींदार बनने के खेल में लग जाते थे। बादशाहों से गांव के गांव और रियासतें भी जागीर में मिलती थीं, सो ऐसे जागीरदार खुद को राजा से कम नहीं समझते थे। अंग्रेजों ने अपना काम निकालने के लिए ऐसे लोगों को ही राजा की उपाधि से भी नवाजा था। ऐसे लोगों के हक वाला इलाका जागीरदारी कहलाता था।
1857-1पुराने जमाने में सेवादारों को मुस्लिम शासकों की ओर से कुछ भूमि बख्शीश में दी जाती थी जिस पर उन्हें लगान नहीं देना होता था। गौरतलब है कि जागीर व्यक्ति विशेष को उसके आयुकाल के लिए ही दी जाती थी। व्यक्ति की मौत के बाद वह फिर शासन की सम्पत्ति कहलाती थी। इसी के चलते बाद में निम्नवर्ग के लोगों नें जागीरदार शब्द को अपना उपनाम भी बना लिया, क्योंकि पुरखे की मौत के बाद उनके पास जागीरदार का रुतबा तो जाता रहा, सो उस नाम को उन्होंने अपनी पहचान से जोड़ लिया। वैसे जागीरदार उच्चवर्गीय उपनाम है और उत्तर भारत से लेकर महाराष्ट्र और कर्नाटक तक इसकी मौजूदगी है।
जागीरदार से काफी ऊंचा होता था जमींदार का। जमींदार बना है जमीन+दार से जिसका अर्थ है भमिपति, भूस्वामी, जमीन का मालिक आदि। जागीरदार तो राज्य की कृपा पर निर्भर व्यक्ति था जबकि जमींदार राज्य के लिए काम करनेवाला, मगर खुदमुख्तार हैसियत वाला रुतबेदार व्यक्ति होता था। जमींदार प्रथा मुस्लिम शासकों के दौर में शुरु हुई थी जिसके जरिये राजस्व वसूली के लिए रुतबे और हैसियतवालों को शासन की ओर से बड़े क्षेत्र दे दिये जाते थे ताकि वे वहां से लगान वसूल कर राजा के खजाने को भर सकें। इस प्रथा से इन जमींदारों को प्रजा पर अत्याचार करने की छूट मिल जाती थी। अय्याश राजा इनसे आंखें मूंदे रहते थे, क्योंकि लगान वसूली के बूते ही उनकी ऐश टिकी हुई थी।

ये सफर आपको कैसा लगा ? पसंद आया हो तो यहां क्लिक करें

11 कमेंट्स:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

जागीर, जगह और जागीरदार से पर्दा उठाने के लिए शुक्रिया!

Udan Tashtari said...

हर रोज नई जानकारियाँ सम्मलित हो जाती है बुद्धिकोश में आपके चलते. बहुत आभार.

मनोज कुमार said...

अच्छी जानकारी। धन्यवाद।

खुशदीप सहगल said...

आज के जागीरदार तो शहीदों के कफ़न तक को नहीं छोड़ते...

जय हिंद...

वाणी गीत said...

अल्पज्ञानियों के लिए बहुत काम की जानकारी ....आभार ...!!

दुलाराम सहारण said...

शानदार ब्‍लॉग, बधाई।

नियमित पढ़ता रहूंगा


सादर

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

एकदम सटीक व्युत्पत्ति। स्थान रिक्त भी हो सकता है लेकिन जगह पर किसी का आधिपत्य अवश्य होगा।

निर्मला कपिला said...

हमेशा की तरह अच्छी जानकारी। बहुत से शब्दों के बारे मे कभी सोचा ही नहीं था आपके ब्लाग से वो जहन मे एक दम फिट हो गये हैं धन्यवाद्

dhiru singh {धीरू सिंह} said...

जमींदार आज तो जमीन्द्राज हो गए और नए शासको ने नई नई पदवी देनी शुरू कर दी है आज कल

सुलभ सतरंगी said...

सटीक जानकारी.
इसी प्रकार बड़े बादशाहों को जहाँगीर का दर्जा दिया जाता था. जिसका मतलब है - दुनिया जहान का मालिक.

डॉ टी एस दराल said...

अच्छी जानकारी। आभार

नीचे दिया गया बक्सा प्रयोग करें हिन्दी में टाइप करने के लिए

Post a Comment


Blog Widget by LinkWithin