Sunday, September 2, 2007

गर्ल्ज कॉलेज की लॉरी

हिन्दुस्तान के मशहूर शायर जांनिसार अख्तर साहित्यिक घराने से ताल्लुक रखते थे। वे तीस के दशक के शुरूआती सालों में अलीगढ मुस्लिम युनिवर्सिटी में पढ़ा करते थे जहां उनकी रूमानी शायरी ने एक शायर के रूप मे उन्हें शोहरत दिलानी शुरू की। मुझे उनकी एक खास नज्म बहुत पसंद है। प्रकाश पंडित उनके बारे में लिखते हैं- उसकी पहली नज्म जिसने उसे ख्याति की सीढ़ी पर ला खड़ा किया, ‘गर्ल्ज कॉलेज की लॉरी’ थी। यह एक वर्णनात्मक नज्म थी और जांनिसार अख्तर के कथनानुसार,
‘ जवानी की इक शरारत के सिवा कुछ न थी’।
इसे अख्तर साहब ने १९३५ में युनिवर्सिटी के मॉरिस हॉल में एक मुशायरे में पढ़ा और उस पर खूब हंगामा हुआ। मूल नज्म में सत्तर अस्सी शेर हैं। प्रकाश पंडित द्वारा अख्तर साहब पर लिखी किताब में इनमें से कुछ शेर दिए गए हैं जो मैं आपके आनंद के लिए यहां छाप रहा हूं। जिस किसी साथी के पास ये नज्म पूरी उपलब्ध हो , उसे अगर पूरी की पूरी देवनागरी में ब्लागर बिरादरी को उपलब्ध कराए तो बड़ा एहसान होगा। करीब १९७२-७३ की बात होगी। मैं तब छोटा था, हमारे कस्बे के गर्ल्ज हाई स्कूल के पास एक विक्टोरियन स्टाइल की लॉरी थी। मैं उसके लिए बड़े लड़कों के मुंह से हुस्न का डिब्बा नाम सुना करता था। बात तब पल्ले नहीं पड़ती थी। कॉलेज में जाकर जब इस नज्म को पढ़ा तो समझ में आ गई।

फ़जाओं में है सुब्ह का रंग तारी
गई है अभी गर्ल्ज कालेज की लॉरी
गई है अभी गूंजती गुनगुनाती
ज़माने की रफ्तार का राग गाती
वो सड़कों पे फूलों की धारी सी बुनती
इधर से , उधर से हसीनों को चुनती

झलकते वो शीशों में शादाब चेहरे
वो कलियां सी खिलती हुई मुंह अंधेरे
वो माथे पे साडी के रंगीं किनारे
सहर से निकलती शफ़क़ के इशारे

किसी की नज़र से अयां खुशमज़ाकी
किसी कि निगाहों में कुछ नींद बाकी
ये खिड़की से रंगीन चेहरा मिलाए
वो खिड़की का रंगीन शीशा गिराए

ये खिडकी से एक हाथ बाहर निकाले
वो जानू पे गिरती किताबे संभाले
ये चलती ज़मीं पर निगाहें जमाती
वो होंठो में अपने कलम को दबाती
किसी की वो हर बार त्योरी सी चढ़ती
दुकानों के तख्ते अधूरे से पढ़ती

कोई इक तरफ़ को सिमटती हुई सी
किनारे को साड़ी के बटती हुई सी
वो लॉरी में गूंजे हुए ज़मज़मे से
दबी मुस्कराहट सुबक क़हक़हे से
वो लहजो में चांदी खनकती हुई सी
वो नज़रों में कलियां चटकती हुई सी

वो आपस की छेड़े वो झूठे फ़साने
कोई इनकी बातों को कैसे न माने
फ़साना भी उनका तराना भी उनका
जवानी भी उनकी ज़माना भी उनका

5 कमेंट्स:

अनामदास said...

कमाल है, मज़ा आ गया.

yunus said...

अरे वाह क्‍या बात है सरकार
मज़ा आ गया
जांनिसार अख्‍तर के फिल्‍मी गीत इकट्ठा करके सुनवाते हैं किसी दिन आपको

अनूप शुक्ला said...

बहुत खूब!

Mired Mirage said...

:)और क्या कहूँ ?
घुघूती बासूती

परमजीत बाली said...

बेहतरीन प्रस्तुति।

नीचे दिया गया बक्सा प्रयोग करें हिन्दी में टाइप करने के लिए

Post a Comment


Blog Widget by LinkWithin